Thursday, May 7, 2009

देहरी पर


उस पार है
उम्मीद और उजास की,
एक पूरी दुनिया।
अंधेरा तो सिर्फ
देहरी पर है।।

1 comment:

nisha said...

सुन्दर कविता है।